Home Motivation परेशानियों( tension) से निपटना है तो रखें इन बातों का ध्यान, नहीं सहना...

परेशानियों( tension) से निपटना है तो रखें इन बातों का ध्यान, नहीं सहना पड़ेगा अधिक दबाव

0
SHARE
  परेशानियां( tension)  किसके जीवन में नहीं आती। चाहे अमीर हो या चाहे गरीब, सबके जीवन में कभी ना कभी परेशानी आती जरूर है। हां यह बात जरूर है कि गरीबों की परेशानी( tension)  जरा अमीरों की तुलना में अधिक कष्टदाई होती है । परंतु परेशानी सबके लिए ही तकलीफदेह होती है । जिन लोगों के जीवन में ऐसी परिस्थिति आती है उनके लिए यह सुनिश्चित करना जरा मुश्किल हो जाता है कि वह किस प्रकार से इस हालात से निपटेंगे। पर आप के हालात जैसे भी हो स्वीकार तो करना ही पड़ता है । कहने का मतलब समय कितना भी परेशानी भरा हो परंतु उसके साथ समझौता करना ही पड़ता है । ऐसे में प्रश्न यह उठता है कि क्या परेशानियों के पल को अच्छे पल में बदला जा सकता है। ऐसे में मैं इसकी गारंटी तो नहीं दूंगा पर इतना तो जरूर कहूंगा कि अगर अपने जीवन में विपरीत पलों का सामना थोड़ा सूझबूझ से किया जाए तो जरूर इस से निपटा जा सकता है ।
 कई लोग अपने इस परिस्थितियों  में टूट से जाते हैं अथवा तनाव से ग्रसित हो जाते हैं । ऐसे लोगों को यह समझना चाहिए कि आप ऐसा करके अपनी मुसीबत को और भी बढ़ा रहे होते हैं ना कि कम कर रहे होते हैं । बुरे वक्त में आदमी को हिम्मत से काम लेना चाहिए तथा धैर्य रखना चाहिए। वक्त चाहे बुरा हो या भला,  हमेशा के लिए नहीं रहता। प्रत्येक पल का समापन कभी ना कभी होना ही है । अतः आप का बुरा समय हमेशा नहीं रहने वाला। परेशानियों ( tension) के दिन कभी ना कभी चले जाएंगे  और अच्छे दिन आएंगे।  इस बात का भरोसा आपके भीतर होना ही होना चाहिए।
  दोस्तों आपके जीवन में भी कई मर्तबा ऐसे पल आए होंगे जब आपको बेहद परेशानी ( tension) हुई होगी । तब आपको बेहद चिंता तनाव खींज पछतावा जैसे बहुत सारे हालात से होकर गुजरने पड़े होंगे । अतः इस परिस्थितियों से बड़ी मुश्किल से आदमी निकल पाता है। ऐसे में आज हम ऐसे ही कुछ उपाय आपके लिए लेकर आए हैं जो सिर्फ आपके लिए हैं। आज हम बताएंगे कि कैसे परेशानियों से निपटा जाए तथा अत्यधिक दबाव की स्थिति से कैसे बाहर निकाला जाए। तो आइए दोस्तों जान लेते हैं कि आपको ऐसे वक्त किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ।
 विश्वास रखें यह दिन भी गुजर जाएगा———–
  अपने परेशानियों( tension)  के दिनों में अपने विश्वास को डगमगाने नहीं देना चाहिए। आपके सामने कितने ही दिन आए और कितने ही चले गए । ठीक वैसे ही आपके परेशानी के दिन भी गुजर जाएंगे और अच्छे दिन चले आएंगे । अगर आप ऐसा सोचेंगे तो आपको दबाव कम  महसूस होगा तथा ऐसे हालात से सामना करने के लिए हिम्मत मिलेगा। आपको इस बात का भरोसा होना चाहिए कि कोई भी वक्त इंसान के जीवन में स्थाई नहीं होता ।
 धैर्य को नहीं खोने दे——–
  परेशानियों( tension)  के समय में धैर्य एक बढ़िया दोस्त साबित हो सकता है। ध्यान रखते हुए गंभीरता से सोचें कि किस तरह इस प्रतिकूल परिस्थिति से निपटा जाए। ऐसे समय में अगर आप धैर्य  नहीं रखेंगे तो आपके अंदर होने वाला उत्तल पुथल समाधान नहीं निकलने देगा। ऐसे में बात बनने की जगह और बिगड़ने लगेगी। जो आप  के लिए मुसीबत लाने वाली होगी ।
 सकारात्मक सोचे ———-
 कई बार मुसीबत की घड़ी में आदमी नकारात्मक सोचने लगता है ।ध्यान रहे नकारात्मक सोच से आपका बुरा ही होगा। अतः ऐसे समय में अपने दिमाग पर नियंत्रण रखें तथा सकारात्मक सोचें। सकारात्मक सोच हमेशा आदमी को सही रास्ते की ओर ले जाती है । जो लोग सकारात्मक सोचते हैं वह बड़ी से बड़ी कठिनाई का हल अपने विवेक से निकाल लेते हैं।
  हिम्मत ना हारें———-
  जो लोग हिम्मत हार जाते हैं वह लोग बाजी भी हार जाते हैं। अतः जीवन में किसी भी क्षेत्र में चुनौतियों से लड़ते समय हिम्मत ना खोने दें। अगर आपके पास हिम्मत है तभी परेशानियों( tension)  के चुनौती को स्वीकार कर पाएंगे तथा उस से लड़ कर आगे निकल पाएंगे ।
 ऐसा सबके साथ होता है——–
  आप जिस परेशानियों ( tension) से इतना दबाव महसूस कर रहे हो वह अकेला आपके साथ नहीं होता । परेशानियां सभी लोगों के जीवन में आती हैं तथा सभी लोग इससे निपटने हुए जीवन को जीते हैं । तो आपको भी ऐसा करना चाहिए। अगर आप सोच रहे हैं कि ऐसा अकेले सिर्फ आप ही के साथ हो रहा है तो यह गलतफहमी है। दुनिया में बहुत से लोगों के साथ ऐसा है।
  मायूस नहीं हो———
  क्या आपके मायूस होने से आपकी परेशानियां ( tension) दूर हो जाएंगी। मुझे नहीं लगता है ऐसा कुछ हो सकता है। अतः ऐसे समय में मायूस होने से कोई लाभ नहीं होने वाला। आप को ऐसे समय एक जेंटलमैन की तरह समाधान निकालने का प्रयास करना चाहिए । क्या पता आप सफल हो जाए।
  आश्चर्यचकित होइए परंतु मुस्कुराइए भी- ———–
  जब आप पर परेशानियों ( tension) का बोझ पढ़े तो आपको आश्चर्यचकित होना चाहिए पर साथ-साथ मुस्कुराना भी चाहिए। मुस्कुराते हुए आपको यह सोचना चाहिए कि आपके साथ ही ऐसा क्यों होता है ?शायद भगवान ने आपको इन परिस्थितियों से निपटने के काबिल बनाया है । इसलिए भगवान आपको ऐसे हालात देता है।  आपको भगवान का शुक्रिया करना चाहिए तथा चुनौती स्वीकार करना चाहिए। आदमी जितना काबिल होता है उसका इंतिहान भी उतना ही कठिन होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here