दोस्ती निभाने के लिए क्या होता है जरूरी, जिसका ख्याल आपको भी रखना चाहिए आइए जानते हैं 

0
116
दोस्ती निभाने के लिए
दोस्ती निभाने के लिए क्या होता है जरूरी   ————
इस जमाने में सच्चा हीरा मिलना बेहद आसान है पर सच्चा दोस्त मिलना बहुत ही मुश्किल है। ऐसे में अगर आपको एक सच्चा दोस्त मिल चुका है तो इसका अर्थ है कि आप बेहद खुश किस्मत है। सच्चा दोस्त जीवन में चाहे कितना भी कठिन परिस्थिति आ जाए पर वह आपके साथ रहेगा। वह हर सही राह पर चलने के लिए प्रेरित करेगा और हर गलत राह पर चलने से रोकेगा । कुल मिलाकर जिसे सच्चा दोस्त मिल गया समझ लो उसे एक अच्छा मार्गदर्शक भी मिल गया। इसलिए दोस्ती बहुत ही पवित्र चीज होती है और हर आदमी के जीवन में दोस्ती बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखती है। अतः यह जरूरी हो जाता है कि अगर आपको एक सच्चा दोस्त मिला है तो आप उसके साथ अपने दोस्ती को भी सच्चे हृदय से निभाए। हालाकि दोस्ती दो लोगों के हृदय से जुड़ा हुआ संबंध है। परंतु फिर भी कई बार हालात ऐसे बन जाते हैं कि दोस्ती में कड़वाहट उत्पन्न हो जाती है और यही कड़वाहट एक दिन दोस्ती टूट जाने का कारण भी बन जाता है। ऐसे में अगर कुछ बातों का ख्याल रखा जाए तो दोस्ती निभाना आसान हो जाता है। तो आज हम बताने जा रहे हैं दोस्ती निभाने के लिए क्या जरूरी है जिसका ख्याल आपको हर संभव रखना चाहिए। तो आइए जान लेते हैं ।
दोस्त को छोटा ना समझें———-
  दोस्ती में कोई छोटा या बड़ा नहीं होता। अतः दोस्त को हमेशा अपने बराबर का समझे तथा उसकी इज्जत करें । कई बार आपकी स्थिति अच्छी होती है तो आप अपने दोस्त को अपने से छोटा समझने की भूल कर बैठते हैं । पर दो दोस्त के बीच इस चीज के लिए कोई जगह नहीं होती।  दोस्ती में कोई अमीर अथवा गरीब नहीं होता है।
दोस्ती निभाने के लिए
  उचित सम्मान अवश्य करें ————
आपको हमेशा अपने दोस्त का उचित सम्मान करना चाहिए। उचित सम्मान देने से दो लोग बेहद निकट आते हैं और दोस्ती भी और प्रगाढ़ होती चली जाती है। कोई आप से मित्रता तब तक ही निभा सकता है जब तक कि आप उसका सम्मान करते हैं।
 विश्वास करें और विश्वास ना तोड़े ——–
 क्योंकि वह आप पर विश्वास करता है तो आपको भी उस पर विश्वास करना चाहिए तथा कभी भी एक दूसरे का विश्वास नहीं तोड़ना चाहिए। आपको यह जान लेना चाहिए कि दुनिया के किसी भी रिश्ते की इमारत विश्वास की बुनियाद पर खड़ी रहती है। विश्वास के समाप्त होते ही रिश्ते की इमारत जमीन पर धड़ाम हो जाएगी । अतः कोशिश यही होनी चाहिए कि विश्वास हमेशा कायम रहे।
  एक दूसरे के बीच झूठ को मत दे जगह———–
 मित्रता निभाने के लिए यह आवश्यक है कि रिश्ते के बीच में कभी भी झूठ को जगह ना दिया जाए । क्योंकि झूठ एक ना एक दिन सामने आ ही जाता है और झूठ पकड़े जाने के बाद एक दूसरे पर से विश्वास खो जाता है। आपको तो पता ही है कि एक बार विश्वास खो जाए तो मित्रता ज्यादा देर तक नहीं टिक सकता ।
 कुछ छुुपाए नहीं————
  सच्चे मित्रों की आदत होती है कि वह अपने रिश्तो को लेकर एक दूसरे से कुछ छुपाते नहीं है। यहां मेरा मतलब है कि आप अपने दोस्ती से संबंधित किसी बात को ना छिपाएं । क्योंकि यह आपके बीच गलतफहमी का कारण बन सकता है। दोस्त के साथ खुला रहना दोस्ती निभाने के लिए बहुुुत जरूरी है
 एक दूसरे के सुख दुख में भी खड़े रहे———
 एक अच्छे दोस्त की निशानी यही है कि वह हमेशा आपके सुख दुख व हर परिस्थिति में खड़ा रहता है। अतः आप को भी इसी तरह एक अच्छे दोस्त का किरदार निभाना चाहिए तथा अपने दोस्त के साथ हर परिस्थिति में खड़ा रहना चाहिए। यह दोस्ती निभाने के लिए बहुुुत जरूरी है ।
 शंका ना करें ———
दुनिया में हर मर्ज का दवा है पर शंका की कोई दवा नहीं है। शंका एक ऐसी खराब मानसिकता है जिससे आपको तो तकलीफ होती ही है साथ साथ आपके दोस्ती निभाने के लिए भी ठीक नहीं होता। अतः कभी भी दोस्त पर शंका ना करें। अगर ऐसी परिस्थिति उत्पन्न होती है तो खुलकर बात कर ले और दोस्त के साथ मिलकर तुरंत हल निकाले वरना इस कारण भी आपके दोस्ती में दरार आ सकती है ।
Previous articleयह  होते हैं अदरक वाली चाय पीने के लाभ
Next articleअगर चाहते हैं वजन बढ़ाना तो शुरू करें इन चीजों का सेवन 
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here