यदि एक ही समय चाहते हैं सभी तीर्थों का पुण्यप्रताप तो हर दिन नहाते समय करें ये उपाय 

0
170
एक ही समय चाहते हैं सभी तीर्थों का पुण्यप्रताप तो
यदि एक ही समय चाहते हैं सभी तीर्थों का पुण्यप्रताप तो हर दिन नहाते समय करें ये उपाय 
 किसी भी व्यक्ति की कुंडली में उपस्थित ग्रहों की दशा उसके जीवन पर गहरा प्रभाव डालती हैं। ऐसा कहा जाता है कि ग्रहों के चाल ठीक रहते हैं तो व्यक्ति के सभी कार्य आसानी से संपन्न हो जाते हैं। परंतु यदि ग्रहों के चाल अशुभ होते हैं तो इसका जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है । परंतु ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह माना जाता है कि कुछ सरल उपायों को जीवन में अपनाकर ग्रह दोष को शांत किया जा सकता है ।
यदि एक ही समय चाहते हैं सभी तीर्थों का पुण्यप्रताप तो हर दिन नहाते समय करें ये उपाय 
अपने कुंडली में गोचर करते क्रूर ग्रहों से छुटकारा के लिए ज्योतिष शास्त्र में कई सरल उपाय बताए गए हैं । संपत्ति की अधिक बर्बादी से बचने के लिए सुबह के समय इस तरह के उपाय अपनाने से घर परिवार की आर्थिक स्थिति संभालती है और इसके साथ ही घर परिवार में सुख समृद्धि आती है। तो चलिए जानते हैं उन उपायों के बारे में ।
यदि एक ही समय चाहते हैं सभी तीर्थों का पुण्यप्रताप तो हर दिन नहाते समय करें ये उपाय 
 ———– सुबह उठकर भगवान सूर्य की आराधना करें तथा तांबे के लोटे से जल अर्पित करें। ऐसा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है तथा समाज में सम्मान तथा प्रतिष्ठा बढ़ती है।
———— प्रत्येक दिन सुबह नहाते समय सभी तीर्थ स्थानों का नाम तथा हिंदू धर्म में पवित्र मानी गई नदियों का नाम जपना शुभ होता है। ऐसा करने से एक साथ सभी तीर्थ स्थानों पर स्नान करने का पुण्य मिलता है। ऐसा माना जाता है कि इस समय अपने मन की इच्छा भगवान के सामने रखने से इच्छा की पूर्ति होती है।
 ———– किसी शुभ काम के लिए घर से निकले तो दही अथवा किसी मीठे का सेवन जरूर करें। ऐसा करने से कार्य पूरी होने की संभावना में वृद्धि हो जाती है।
 ———— तुलसी के पास हर दिन सुबह जल चढ़ाने तथा शाम को दीपक जलाने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। इस उपाय को करने से माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की कृपा बरसती है।
 ————- रोज सुबह तांबे के लोटे से शिवलिंग पर जल चढ़ाना शुभ होता है। ऐसी मान्यता है कि जल में काले तिल को मिलाकर भगवान शिव की उपासना करने से भगवान शिव सभी इच्छाओं की पूर्ति करते हैं।
 ————– मान्यता के अनुसार जिन लोगों पर शनि देव की क्रूर दृष्टि हो तो वे लोग इससे बचने के लिए कटोरे में तेल ले तथा उसमें अपना चेहरा देखें वह उसके बाद उस तेल को दान कर दें । इससे शनि की क्रूर दृष्टि से आ रही बाधाएं दूर हो जाती हैं।
 ———- ऐसा भी माना जाता है कि सुबह के समय स्नान करते समय बाथरूम में बैठकर नाखून नहीं काटना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा करना अशुभ माना जाता है।