Home astrology वास्तु दोष के कारण भी बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है...

वास्तु दोष के कारण भी बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन, अपनाएं इन सरल उपायों को तथा पाएं निजात

0
SHARE
 बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन
वास्तु दोष के कारण भी बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन, अपनाएं इन सरल उपायों को तथा पाएं निजात
  सभी अभिभावकगण प्रतियोगिता के इस दौर में अपने बच्चों के पढ़ाई को लेकर बहुत ही ज्यादा चिंतित रहते हैं। बच्चों में परिवार से लेकर समाज तथा देश तक का भविष्य निहित होता है । यही कारण है कि हम सभी अपने बच्चों के अच्छे भविष्य को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं। हम सोचते रहते हैं कि बच्चे की पढ़ाई कैसी रहेगी तथा पढ़ाई का प्रभाव करियर पर कैसा होगा। इसी को लेकर अभिभावक अक्सर अपने बच्चों पर अनावश्यक दबाव डालना शुरु कर देते हैं। यहां तक कि जब पढ़ाई अथवा किसी विषय में मन नहीं लग पाता तो उसकी 2 से 3 ट्यूशन लगवा देते हैं। ताकि वह ठीक से पढ़ सके। परंतु ऐसी स्थिति में ऐसा नहीं सोचते कि उस पर अतिरिक्त दबाव बढ़ेगा।
वास्तु दोष के कारण भी बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन, अपनाएं इन सरल उपायों को तथा पाएं निजात
  किसी भी माता-पिता के लिए यह समझना आवश्यक है कि उसके बच्चे का मन पढ़ाई में न लगने का कारण क्या है? सही कारण समझने के बाद ही कोई युक्ति निकाली जा सकती है। वैसे किसी बच्चे का पढ़ाई में मन ना लगने का कारण वास्तु दोष भी हो सकता है। कई बार वास्तु दोष के कारण ही बच्चे पढ़ाई में अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाते । अतः इस समस्या से बचने के लिए माता-पिता को बच्चों की समस्या को समझने के बाद सही उपाय करना चाहिए । आपके द्वारा किए गए वास्तु के ये उपाय बच्चों की कुंडली से वास्तु दोष को खत्म करने में सहायता करेंगे। तो आइए जानते हैं उपायों के बारे में ।
वास्तु दोष के कारण भी बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन, अपनाएं इन सरल उपायों को तथा पाएं निजात
 ———- स्टडी रूम में मोबाइल, लैपटॉप जैसे सामानों को नहीं रखना चाहिए। इससे बच्चों का ध्यान भटकता है तथा पढ़ाई में मन नहीं लगता।
 ———– स्टडी रूम दक्षिण अथवा-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। रूम में हल्के हरे रंग का प्रयोग करें। ज्योतिष के अनुसार बुध ग्रह का रंग हरा है तथा यह उच्च शिक्षा का कारक ग्रह भी होता है।
 ———– स्टडी रूम में प्रकाश पीछे की ओर से आनी चाहिए । सामने से लाइट नहीं आनी चाहिए इससे पढ़ाई में व्यवधान उत्पन्न होता है।
 ———- स्टडी रूम मेंं मेज या टेबल को कभी भी कोने में नहीं रखें। मैंज या टेबल को कभी भी दीवार से हटकर रूम के बीच में रखें।
 ———‘ स्टडी रूम में मां सरस्वती तथा भगवान गणेश की तस्वीर लगाना शुभ माना जाता है। इससे पढ़ाई के लिए अनुकूल व सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है तथा मां सरस्वती व भगवान श्री गणेश की कृपा होती है।
 ——– स्टडी रूम का दरवाजा पूर्व अथवा उत्तर दिशा में होना चाहिए ।
———- पढ़ाई करते समय बच्चे को उत्तर अथवा पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए। ऐसा करने से पढ़ाई में एकाग्रता रहती है तथा बच्चा मन लगाकर पढ़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here