दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है

0
187
 दुनिया में हर चीज संभव है
दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है। कभी-कभी कुछ ऐसे इतिहास बन जाते हैं जिसके बारे में आदमी कल्पना भी नहीं करता, इसलिए आदमी सोचने लगता है कि यह इतिहास कभी नहीं टूटेगा। लेकिन सच इससे बिल्कुल ही अलग होता है। इतिहास किसी के मुठ्ठी में नहीं होता, खासकर के वह इतिहास जो बनने को बाकी है। सच तो ये है कि भविष्य के गर्भ में क्या छिपा है यह कोई भी नहीं जानता। यह हर व्यक्ति की सोच से परे है।दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है।
फिर हम क्यों सोचते है कि यह हो गया तो दुबारा नहीं होगा या इससे ज्यादा कुछ दोबारा नहीं होगा या भविष्य में ऐसा नहीं होगा वैसा नहीं होगा? मैं तो कहता हूं कुछ भी हो सकता है। दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है।
दुनिया में पहले भी बहुत कुछ हुआ जो आदमी की सोच से परे था और आगे भी बहुत कुछ होगा जो आदमी के सोच से परे है।
जब चिट्ठीयों का जमाना था तब कोई सोच भी नहीं सकता था कि आदमी दूर बैठे किसी व्यक्ति की आवाज सुन भी सकता है। तार आया, टेलीफोन आया, रेडियो आया, फिर मोबाइल आया। जरा आप ही सोचिए जब सादा मोबाइल लोगों की हाथों में पहुंचा तो क्या कोई सोच सकता था रंगीन भी आएगा जिसमें गाने वह वीडियो भी चलेंगे। किंतु ऐसा हुआ। अब तो लोग इंटरनेट से लाइव वीडियो देखकर बातचीत भी कर लेते हैं। इसलिए मैं कहता हूं इस दुनिया में कुछ भी हो सकता है। दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है।
यह इंसान है ना इसको भगवान ने बनाया ही ऐसा है। सच में यह कुछ भी कर सकता है। आप ही सोचिए सालों पहले क्रिकेट में डॉन ब्रैडमैन आया तो सभी कहते थे इसका रिकॉर्ड कोई नहीं तोड़ पाएगा, किंतु सारे अनुमानों को झुठला कर हमारे सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के भगवान बन गए। आपने सचिन को भी देखा किस तरह से करिश्माई बल्लेबाजी की। सरकार के तरफ से भारत रत्न भी प्राप्त हो गया। चारों ओर सचिन की जय जय हुई। किंतु अभी कुछ ही साल तो नहीं बीते हैं कि विराट कोहली पीछे लग गया है। मैं गारंटी तो नहीं दे सकता किंतु लगता ऐसा ही है कि वह सचिन का रिकॉर्ड तोड़ देगा।

खैर  ऐसा होगा कि नहीं होगा यह बात कोई नहीं जानता, यह तो समय ही बताएगा। किंतु सभी मानने लगे हैं कि विराट सचिन से आगे निकल सकता है। फिर वह बात भी सही है कि संसार में इतिहास बनता है और फिर टूट भी जाता है। कोई भी रिकॉर्ड अटल नहीं रहने वाला है। उसे भविष्य में किसी ना किसी दिन टूटना अवश्य ही है।

इसलिए मन में भ्रम ना पालें। यह  भ्रम ही नहीं है बल्कि नकारात्मकता है जो कभी भी स्वयं का पैर खींचने लगता है। हमेशा सोचें इस दुनिया में कुछ भी हो सकता है।दुनिया में हर चीज संभव है कभी भी कुछ भी हो सकता है।  इससे आप स्वयं एक दिन सोचने लगेंगे कि मैं कुछ भी कर सकता हूं, फिर आप कुछ भी करके दिखा देंगे।