Home Blogging tips in hindi प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना 

प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना 

1
SHARE
प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना
प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब
इस विषय पर आप क्या सोचते हैं यह मैं नहीं जानता। परंतु मेरा तो साफ मानना है कि प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों और रिश्तेदारों को भूल जाना है। हो सकता है आप को यह बात पचे नहीं या पच भी जाए पर तो यह  बता देना चाहूंगा कि अधिकतर ब्लॉगरों के साथ ऐसा होता है जो प्रोफेशनली तौर पर लॉगिन करते हैं। यह ब्लॉगरों की कटु सच्चाई है पर मानना ना मानना आपके ऊपर है।

प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना

इसका मुख्य वजह यह है कि ब्लॉगर के पास समय का अभाव रहता है। उसका दिमाग पूरे दिन रिसर्च करके पोस्ट लिखने पर रहता है । उसके ऊपर से वेबसाइट को संभालने की जिम्मेदारी जो होती है। जो लोग लिखते पढ़ते हैं उन्हें पता है कि एक बेहतरीन लेख लिखना जिसको लोग पढ़े, पसंद करें, कितना मुश्किल और दिमाग पकाऊ कार्य है। बस इसी कार्य को करते-करते ब्लॉगर का  दिन रात कैसे निकल जाता है पता ही नहीं चलता। फिर वह अपने मित्रों और रिश्तेदारों को समय कहां से दें। यही वजह है कि मैंने इस लेख का शीर्षक रखा की प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों और रिश्तेदारों को भूल जाना है, और यह सही भी है। आमतौर पर ब्लॉगरों के साथ ऐसा होता है।
  अक्सर लोग ब्लॉगरों से शिकायत करते मिल जाते हैं कि यार तू तो भूल गया है, दूज का चांद हो गया है। परंतु सच तो यह है कि एक ब्लॉगर घनी काली अंधेरी में टिमटिमाता खोया हुआ जुगनू है जो अकेला भटकता फिर रहा है फिर भी लोगों को लगता है कि वह बहुत खुश है, चमकता दमकता है, प्रभावशाली है। अजीब सी दुविधा है ब्लॉगरों के साथ तो। पर ब्लॉगर अच्छी तरह जानता है कि ब्लॉगर बनने के बाद वह कितना व्यस्त रहता है।
  कई ब्लॉगरों नेे तो अपने दिल की बात ब्लॉग के माध्यम से बताया जिसे जानकर कुछ लोग आश्चर्य चकित हुए होंगे। परंतु इसमें आश्चर्य की बात नहीं है। वास्तव में ब्लॉगरों के साथ ऐसा हो रहा है। अब ब्लॉगरों की बात कोई ब्लॉगर ही बढ़िया तरह से समझ सकता है। यहां मैं उन ब्लोगरों की बात कर रहा हूं जिन्होंने यह बताया है अपने ब्लॉग के माध्यम से की उन्हें किसी लड़की से प्यार करने का समय भी नहीं मिल पाता। सुनने वाले को थोड़ा अटपटा भले लगे लेकिन इसमें बहुत हद तक सच्चाई भी है। क्योंकि ब्लॉगर के पास इतना समय नहीं है कि वह ब्लॉगिंग के साथ-साथ और कुछ भी कर सकें।
प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना
 ऊपर से दुनिया के प्रत्येक ब्लॉगरों की यह बेहतरीन आदत है कि वह अपना समय बर्बाद नहीं करते। वे अपने समय का अधिक से अधिक सदुपयोग करना चाहते हैं तथा अधिक से अधिक जानकारियों से भरी पोस्ट लिखकर लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं। मोटे मोटे में कहूं तो यही सब लब्बोलुआब है जिसकी वजह से ब्लॉगर अपने करीबियों को समय नहीं दे पाता है। अतः इसमें कोई दो राय नहीं है कि प्रोफेशनल ब्लॉगर बनना मतलब अपने मित्रों रिश्तेदारों को भूल जाना है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here