Home Motivation हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi

हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi

0
SHARE

हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi

अकेला आदमी
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi

हालांकि अक्सर ही लोग कहा करते हैं ( अकेला आदमी ) मैं अकेला हूं परेशान हूं अकेले क्या क्या करूं वगैरा-वगैरा। कहना गलत नहीं है अकेले आदमी पर जब अधिक बोझ पड़ता है तो विचलित हो ही जाता है।

 समाज में आसपास आपके बहुत से ऐसे लोग मिलते होंगे जो दुनियादारी की जिम्मेदारियों के खींचतान में इतने व्यस्त होते हैं कि उन्हें अपने लिए समय ही नहीं मिलता है। कई बार तो बीच में उनसे यह भी कहते हुए सुना गया है कि यार अकेले मैं क्या क्या करूं यह करूं कि वह करूं? मेरी तो जिंदगी ही नरक हो गई है।
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi
 तात्पर्य यह है कि अकेले आदमी पर जब चारों ओर से बोझ पड़ता है तो वह तनाव में आ जाता है। लेकिन इस तनाव के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। हो सकता है कोई व्यक्ति अधिक बोझ सहन न करने वाला हो परंतु उस पर अधिक बोझ दे दिया जाए तो वह तनावग्रस्त हो जाएगा।
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi
 दुनिया में ऐसे लोग भी तो हैं जो थोड़ी सी परेशानियों के कारण टेंशन में आ जाते हैं। यानी ऐसे लोग जब शत-प्रतिशत कठिनाइयों से दूर होते हैं तभी खुश रह पाते हैं। ऐसे लोगों के जीवन में जब भी कोई मुसीबत आती है तो दुखी हो जाते हैं और सही रास्ते का चुनाव नहीं कर पाते। इसी कारण आमतौर पर देखा गया है कि यह लोग मुसीबत का एक साधारण सा झोंका झेलने में भी परेशान हो जाते हैं।
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi
 यह सच भी है कि किसी भी कार्य को और जिम्मेदारी को अकेले पूरा करने में व कई लोगों द्वारा मिलकर एक साथ पूरा करने में फर्क होता है। संगठित रूप से किसी कार्य को किया जाए तो आसान हो जाता है पर अकेले जब कोई कार्य को किया जाता है तो कहीं ना कहीं कठिन तो हो ही जाता है। पर ऐसा बिल्कुल नहीं है कि अकेला किसी कार्य को अंजाम नहीं दिया जा सकता। पर हर कार्य को अकेले करना संभव नहीं है।
 परंतु मेरा खुद का मानना भी है और तजुर्बा भी है कि यदि कार्यों में वह कार्य जो इंसान को महान या महानतम बना देता है वह अकेले ही किया जाता है। कुल मिलाकर अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता परंतु अकेला चना भाड़ फोड़ दे तो इतिहास बन जाता है। निश्चित ही वह चना महान है जो अकेले ही भाड़ फोड़ दे।
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi
 यानी कि साधारणतया आम कार्यों को करने के लिए एक आदमी काफी हो सकता है या बहुत से लोगों की जरूरत पड़ सकती है परंतु असाधारण कार्यों को करने के लिए अकेला आदमी ही काफी है।
 जैसे की आप को उच्च कोटि का डॉक्टर, इंजीनियर, नेता, अभिनेता, गायक, संगीतकार, लेखक जो भी बनना है इसमें सिर्फ आप की लगन और मेहनत काम आएगी। इन सब मंजिलों तक पहुंचने के लिए आपके पैरों को अग्रसर होना पड़ेगा। इसमें कोई हाथ नहीं बंटा सकता। लेकिन एक चीज तो यह भी निश्चित है कि आप जब इन लक्ष्यों को पूरा कर लेंगे और तब आप श्रेष्ठ सम्मानित महान बन जाएंगे और टाइटल भी आपको ही मिलेगा।
हर महान कार्य अकेला आदमी ही करता है akela aadmi
 तो इस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य था कि आदमी किसी कार्य को अकेला कर सकता है या कि नहीं। तो दोस्तों अकेले किसी कार्य को कर पाने या ना कर पाने का सवाल परिस्थितियों और उस कार्य पर निर्भर करता है जिस कार्य को किया जा रहा है। साथ-साथ यह भी सत्य है कि अधिकतर लोग तो अकेले कुछ कर ही नहीं पाते परंतु जो लोग असाधारण प्रतिभा के धनी होते हैं वह बहुत कुछ अकेले ही करके दिखा देते हैं और जो व्यक्ति अकेला करता है वह महान कार्य करता है और वह आगे चलकर महान बनता है।
Homepage dekhen — www.sitehindi.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here