दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

0
75

दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

 दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

जीवन में जो कुछ भी करने का इरादा हो उसे खुलकर कीजिए दिल से कीजिए और अपना शत-प्रतिशत लगाकर कीजिए फिर आपको सफल होने से कोई भी नहीं रोक सकेगा । हां परंतु रास्ते में मुश्किलें आएंगी पर आपको इन मुश्किलों से हरगिज़ नहीं डरना है। एकदम निडर होकर आगे बढ़ना है क्योंकि आपने यह कहावत तो सुना ही होगा कि जो डर गया वह मर गया। खैर आप यदि मुश्किलों से डरेंगे तो मरेंगे तो नहीं किंतु असफल होने के बाद ठीक से जी भी नहीं सकोगे। इसलिए डरिए तो कभी भी नहीं । मगर डर से आगे बढ़िए क्योंकि वास्तव में डर के आगे जीत है ।
तो यदि वास्तव में आपको जीतना है तो डर से आगे निकल कर मंजिल तक पहुंचने की सोचिए ।

अच्छा एक चीज देखा गया है कि कई बार आदमी करना तो बहुत कुछ चाहता है पर संकोच के कारण कर नहीं पाता। दरअसल ऐसा आत्मविश्वास के स्तर में कमी के कारण होता है । हालांकि आदमी में परिश्रम करने की क्षमता में किसी प्रकार की कमी नहीं होती परंतु वह थोड़ा शर्म थोड़ा संकोच के कारण काम में हाथ नहीं लगा पाता और हाथ मलता रह जाता है। दरअसल यह सबसे बड़ा रोग है । संदीप माहेश्वरी जी कहते भी हैं कि सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग? दरअसल आदमी इसी चिंता में अपनी नाव मझधार में डूबा देता है कि लोग क्या कहेंगे ।

मेरा यह मानना है कि लोगों की चिंता क्या करनी है ? क्यों सोचना है कि लोग क्या कहेंगे ? हम क्यों लोगों की बात सुने हम क्यों लोगों की प्रवाह करें क्यों लोगों के पीछे भागे ? यदि कुछ करना है तो आप अपने लिए कीजिए अपने दिल की सुनिए दिल की परवाह कीजिए दिल के पीछे भागिए। आप स्वयं तय कीजिए कि आपकी अंतरात्मा क्या कह रही है और आप उस राह पर चलिए जिधर चलने के लिए आपकी अंतरात्मा प्रेरित करती है । आप सदैव ही अपने अंदर की आवाज को सुनिए क्योंकि वास्तव में आपके अंदर की आवाज ही सच्ची है और एक वही आपको सच्ची दिशा की ओर ले जाएगी ।

दिल की आवाज को सुनिए और एक बात आप ध्यान दीजिएगा कि जीवन में आप अपने आप को जो भी मान लेते हैं वह बन जाते हैं। अब यह आपके ऊपर है कि आप स्वयं को क्या मानते हैं । आप अपने अस्तित्व के स्तर को कहां तक समझते  हैं । अतः कभी भी अपने आप को मानते समय किसी प्रकार की भूल मत कीजिए और सदैव ही उत्तम समझिए ।

दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

जब आप असफल होते हैं तो तरह-तरह के आप पर दुनिया द्वारा कटाक्ष किया जाता है । घर की दहलीज से लेकर समाज के बीच तक आप का मखौल उड़ाया जाता है । ऐसी हरकतों से कभी भी भयभीत मत होइए। यदि आपको सभी कहते हैं कि आप की किस्मत खराब है तो आप सोचिए कि आप क्यों नहीं अपनी किस्मत बदल सकते हैं । यदि लोग कहते हैं कि आपके हाथ की लकीरों में कामयाबी नहीं है तो आप सोचिए कि क्यों नहीं आप अपने हाथों की लकीरों को बदल सकते हैं ? दरअसल आप अपने मेहनत से कुछ भी कर सकते हैं। मेहनत से असफलता को सफलता में बदला जा सकता है । मेहनत से हाथों की लकीरों की कमियों को भी दूर किया जा सकता है । आप हमेशा सकारात्मक सोच के साथ मेहनत कीजिए,  आप देखिएगा वह दिन दूर नहीं जब आपके पास सब कुछ होगा । वह सब कुछ जिसकी आपको सोते जागते वक्त चाहत रहती है ।

संदीप माहेश्वरी जी कहते हैं कि यदि आपके पास लड़ने की क्षमता है तो समझ लो आप जीत गए। यदि सोए हुए हो, डरे हुए हो तो उठो आगे बढ़ो सारा खेल पलक जाएगा 1 दिन के अंदर अंदर ।

तो दोस्तों कभी भी कुछ भी करने से पहले भयभीत नहीं होना चाहिए । चिंता मत कीजिए चिंतन कीजिए। शांति मनसे अपने अंदर की आवाज को सुनिए। सुनिए कि आपका दिल क्या कह रहा है ? जिस दिन आपने अपने अंदर की आवाज वास्तव में सुन लिया उसी दिन से आप कामयाबी की ओर अग्रसर हो जाएंगे । तब रास्ते में कितनी भी बाधा आए परंतु आपको कोई फर्क नहीं पड़ेगा । आपकी पैर पकड़कर एक आदमी खींचे या की एक लाख पर कोई कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा । आप निरंतर सफलता के नए नए आयाम छूते जाएंगे।