study tips for all students in Hindi language

0
5

study tips for all students in Hindi language

study tips for all students

study tips for all students in Hindi language

पढ़ाई सभी बच्चे करते हैं । कोई सुबह शाम पड़ता है कोई रात को 3:00 बजे पढ़ने के लिए उठ जाता है कोई कोई तो पढ़ने के अलावा कुछ करता ही नहीं है। परंतु क्या आपने कभी यह सोचा है कि दिन रात पढ़ाई करने से ही पढ़ाई पूरी नहीं होती । आप बहुत से ऐसे बच्चे देखे होंगे जो दिन-रात पढ़ाई करके भी फेल हो जाते हैं या तो उनका नंबर कम आता है । साथ साथ आप बहुत से ऐसे बच्चे भी देखे होंगे जो पढ़ते तो 2 से 4 घंटा ही है पर या तो वे फेल हो जाते हैं या फिर प्रथम स्थान ले आते हैं । ( study tips for all students ) दरअसल ऐसी घटनाओं में पढ़ाई का तो महत्व होता ही है पर दिन रात वाले पढ़ाई का कुछ खास नहीं । आप कितना भी पढ़ें दिन रात एक कर के पढ़ाई के चक्कर में आप पूर समय ही निकाल दें, परंतु आप अच्छे पढ़ाकू तब तक नहीं है जब तक आप मन लगाकर नहीं पढ़ाई करते ।

study tips for all students in Hindi

वास्तविकता यही है कि ज्यादातर लोग जीवन में मन से अपना काम नहीं करते यही वजह है कि वह काम तो करते हैं परंतु गुणवत्ता के साथ नहीं करते । पढ़ाई में ठीक ऐसा ही है बच्चे पढ़ते हैं पर दिल ना लगने के बाद भी जबरदस्ती की पढ़ाई करते हैं तब समस्या उत्पन्न होती है। ऐसे में दिन रात रट्टा मारा जाए तो भी कुछ याद नहीं रहने वाला। किंतु जो लड़के दो 4 घंटे पढ़ते हैं पर दिल से पढ़ते हैं तो उनको अध्ययन किया हुआ सब स्मरण रह जाता है । इसलिए वह आगे निकल जाते हैं । किंतु मैं इसका मतलब यह नहीं कह रहा कि आप दिन रात पढ़ते हैं तो उसे कम कर दीजिए और मात्र 2 से 4 घंटा पढ़िए । मैं तो बस यह कहना चाहता हूं कि आप जितना भी पढ़िए दिल से पढ़िए । आप जितना भी पढ़ रहे हो आप का ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर होना चाहिए, और सारी चीजों पर थोड़ा भी ध्यान नहीं देना है । आपको यानी पढ़ाई के लिए जो जरूरी है वह है एकाग्रता। एकाग्रता ही ऐसा मंत्र है जो आपको सरलता से सफलता की तरफ ले जाएगा ।

study tips for all students

मैं अपना क्या बताऊं जब मैं छोटा था तो पढ़ाई में मन नहीं लगता था फिर भी जैसे तैसे पढ़ा किंतु ज्ञान एक पैसे का भी नहीं बटोर पाया । किंतु जब इंटरनेट की क्रांति आई और मैं समाचार ब्लॉग पढ़ने लगा तथा फेसबुक का प्रयोग करने लगा उसके 2 साल बाद मुझे पता चला कि मैं काफी बुद्धिमान हो चुका हूं । फिर मैंने इसके कारणों को तलाशना शुरू किया तो पाया कि मैं जब किताबों वाली पढ़ाई करता था तब दिल से नहीं करता था जबकि इंटरनेट पर जो भी पढ़ता देखता सुनता हूं वह भूलता नहीं , क्योंकि वहां दिमाग एकाग्र होता है । तब से मुझे पता चला की एकाग्रता कितनी बड़ी चीज है । किंतु एकाग्रता तभी आती है जब आपका दिल लगता हो । ( study tips for all students ) दरअसल मोबाइल इंटरनेट पर दिल लग जाता है पर किताबों में नहीं लगता । इसलिए मैं तो कहूंगा कि आप जिस प्रकार मोबाइल इंटरनेट पर दिल लगाते हैं उसी प्रकार किताबों पर भी दिल लगाएं तो निश्चित ही सफलता मिलेगी ।

आप जो भी पढ़िए उस पर मनन कीजिए। हां मेरे द्वारा इंटरनेट और मोबाइल का उदाहरण देने का मतलब यह नहीं कि आप भी मोबाइल इंटरनेट पर लगे रहिए पढ़ाई छोड़कर। मेरा मतलब  यह था कि आप जिस तरह इंटरनेट या मोबाइल चलाने में मग्न हो जाते हैं तथा दूसरा कुछ भी नहीं सोचते वैसे ही आप अपने किताबों में मग्न हो जाइए और दूजा कुछ भी नहीं सोचिए  और पढ़ाई पर ध्यान दीजिए । ( study tips for all students ) फिर आप देखिएगा कम समय पढ़ने के बावजूद भी आप सफल हो जाएंगे । यदि आप जाते समय पड़ेंगे तो सोने पर सुहागा होगा पर ध्यान रहे पढ़ाई चिंतन मनन के साथ करें।

जीवन में पढ़ाई का सदा ही महत्व रहा है और सदा ही रहेगा

जब दिल से मेहनत किया जाए तो सुखद परिणाम की आशा तो रहती है

अहंकारी व्यक्ति अपने साथ-साथ दूसरों का भी अहित करता है

आदमी किसी कार्य को अकेला कर सकता है

दिल की आवाज सुनिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

Previous articleHow is the development of Bhojpuri language and its status in Hindi
Next articleWhy you should start a blog in Hindi language
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here