Home Biography Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी

Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी

0
SHARE

Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी

Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi

सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी ( Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi ):- तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा का नारा देते हुए आजादी दिलाने वाले नेता सुभाष चंद्र बॉस को आज पूरी दुनिया जानती है। लेकिन अभी कुछ ऐसे लोग है जो इनकी जीवनी से अंजान है। इसलिए आज हम सुभाष चंद्र बॉस (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi) के जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण किस्सों के बारे में बताने जा रहे हैं। वैसे भी आपको बता दे कि सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी किसी भी व्यक्ति को आगे बढ़ने और देश के प्रति लगाव रखने की शिक्षा देती है। इसलिए आज आपको हमारे इस लेख में  सुभाष चंद्र बॉस के बारे में दी गयी उनके जीवन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे ज़रूर पढ़ना चाहिए तो चलिये जानते हैं –

सुभाष चंद्र बॉस की जीवनी (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi)

आजाद हिन्द फौज की स्थापना करने वाले और अंग्रेजो को देश से बाहर निकालने बाले नेता जी को उनकी बहादुरों के कारण नेता जी के नाम से पुकारा जाता है। महात्मा गांधी और नेहरू की तरह नेता जी (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi) भी देश के स्वतंत्रता सेनानी रहे और देश को आजाद कराने में अपनी अहम भूमिका निभाई थी । देश की आजादी के कारण उन्हें कई बार जेल भी जाना पढ़ा था इसलिए आज उन्हें उनकी बहादुरी और देश के लिए बलिदान हेतु दुनिया भर में याद किया जाता है।

जन्म

सुभाष चंद्र बॉस का जन्म उड़ीसा के कटक शहर में 23 जनवरी 1887 में हुआ था । इनके पिता का नाम जानकी नाथ बॉस था जो कि एक वकील थे, और उनकी माता का नाम प्रभावती देवी जो कि एक धार्मिक महिला थी। सुभाष चंद्र बॉस 14 भाई बहन थे जिसमें उनकी 6 बहन और 8 भाई थे।

शिक्षा

सुभाष चंद्र बॉस जो कि शुरू से ही पड़ने में काफी अच्छे थे इनकी शुरुआत की पढ़ाई कटक में हुई थी। बता दे कि नेता सुभाष चंद्र बॉस ने दसवी में पहला स्थान प्राप्त किया था। नेता जी (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi) ने अपनी स्नातक की पढ़ाई भी कटक में प्रथम स्थान के साथ पूरी की थी और यह अपनी आगे की उच्च पढ़ाई कलकत्ता शहर के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से पूरी की थी। फिर इनकी आगे की पढ़ाई करने के लिए इनके माता पिता ने इन्हें इंग्लैंड के कब्रिज विश्वविद्यालय  भेज दिया था।

कैरियर

उस समय जब देश अंग्रेजों के अधीन था तब भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा को पास करना काफी कठिन था । उस समय सुभाष चंद्र बॉस ने इस परीक्षा को पास करके उसमे अपना चौथा स्थान प्राप्त किया। लेकिन आज़ादी के प्रति देश में बढ़ रही राजनीतिक गतिविधियों के चलते (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi) अपने इस पद से इस्तीफ़ा दे दिया और अपने देश भारत लौट आयें। भारत लौटते ही सुभाष चंद्र बॉस गांधी जी के संपर्क में आये और इन्होंने भारतीय पार्टी कांग्रेस के साथ जुड़ गए।

और बहुत जल्द नेता जी अपनी मेहनत के कारण इस पार्टी के मुख्य नेता बन गए, और 1938 में कांग्रेस पार्टी ने इन्हें पार्टी का अध्यक्ष बना दिया गया। पार्टी का अध्यक्ष बनाये जाने के बाद सुभाष ने राष्ट्रीय योजना आयोग का गठन किया और इसी तरह सैन्य  गठन करके तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा जैसे नारे को आगे बढ़ाते हुए देश को आजाद कराने में अपना सब कुछ बलिदान कर दिया।

मृत्यु

सुभाष चंद्र बॉस की मृत्यु कैसे हुई यह अभी भी क्लियर नही हो पाया है लेकिन ऐसा माना जाता है कि (Biography Of Subhash Chandra Bose In Hindi) मौत एक विमान दुर्घटना के कारण हुई थी। लेकिन इस विमान दुर्घटना का अब तक कोई साक्ष्य नही मिला है जिससे की पता चल सके कि उनकी मृत्यु विमान दुर्घटना के कारण ही हुई थी।

Biography of Jawaharlal Nehru in Hindi पं जवाहर लाल नेहरु की जीवनी

महात्मा गांधी की जीवनी Biography Of Mahatma Gandhi In Hindi
Biography of Rishi kapoor in Hindi ऋषि कपूर की जीवनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here