Home astrology सतयुग कैसा होगा आइए हम सभी जानते हैं इसके बारे में 

सतयुग कैसा होगा आइए हम सभी जानते हैं इसके बारे में 

0
SHARE
सतयुग कैसा होगा आइए हम सभी जानते हैं इसके बारे में 
Satyug kaisa hoga aaeye jante hain

सतयुग कैसा होगा आइए हम सभी जानते हैं इसके बारे में :-  हिंदू धर्म में चार युगों का वर्णन पाया जाता है जिसका नाम क्रमशः सतयुग, द्वापर युग, त्रेता युग और कलियुग है । दोस्तों इन सब के बारे में हमारे धर्म ग्रंथों में वर्णन मिलता है । फिलहाल तो कलयुग चल रहा है जो भगवान श्री कृष्ण के इस दुनिया से जाने के बाद शुरू हुआ था । अब जब इस धरती से कलयुग समाप्त होगा तब पुनः सतयुग आरंभ होगा। ऐसे में बहुत सारे लोगों के मन में यह प्रश्न होता है कि इस कलयुग के बाद जब पुनः सतयुग आएगा तो वह कैसा होगा ? अगर आपके मन में भी सतयुग के बारे में जानने का प्रश्न है तो आप बिल्कुल ही सही जगह पर हैं । बस आप इस लेख को पूरा पढ़ लीजिए आपको पता चल जाएगा कि सतयुग कैसा होगा?  तो चलिए जान लेते हैं ।

 
भगवान कल्कि धरती पर आएंगे
 जब इस धरती से कलयुग का अंत नजदीक होगा तब भगवान विष्णु कल्कि अवतार के रूप में इस धरती पर आएंगे । तब भगवान कल्कि इस धरती से अधर्म का नाश करेंगे और पुनः धर्म की स्थापना करेंगे और सतयुग का प्रारंभ होगा । फिलहाल मनुष्य भौतिक सुखों को अधिक महत्व देता है लेकिन भगवान कल्कि मनुष्य को यह एहसास कराएंगे की भौतिक सुखों से महत्वपूर्ण मानसिक सुख होता है । ऐसे में जब सतयुग प्रारंभ होगा तब मनुष्य मानसिक सुख को महत्व देना शुरु कर देगा तथा भौतिक सुख का त्याग कर देगा ।
सतयुग होगा सर्वश्रेष्ठ युग 
 चारों युगों में सतयुग को सर्वश्रेष्ठ युग माना गया है । दरअसल इस युग में मानवता हर व्यक्ति के भीतर कूट-कूट कर भरी होगी । इस युग में हर मनुष्य मानव कल्याण के बारे में अधिक सोचेगा । इसके अलावा इस काल में मनुष्य बड़ा ही दयावान होगा तथा जीव मात्र से अधिक प्रेम करेगा । लोग मांस मदिरा का सेवन नहीं करेंगे तथा सत्कर्म करेंगे ।
 अगर सतयुग के उम्र की बात की जाए तो सतयुग की उम्र पुराणों के अनुसार 17 लाख 28000 साल माना गया है । वहीं अगर सतयुग में इंसानों के उम्र की बात की जाए तो इसके अनुसार उस समय इंसानों की उम्र लगभग 4000 साल की होगी ।
सतयुग को स्वर्णिम युग कहा जाएगा
 सतयुग में लोग असत्य से दूर रहेंगे तथा सत्य कर्म और धर्म में लीन रहेंगे । समग्र पृथ्वी पर धर्म का बोलबाला होगा । चारों तरफ सिर्फ प्रेम ही प्रेम होगा । लोग पूजा पाठ धर्म कार्य तपस्या इत्यादि में बहुत ही विश्वास करेंगे । इस युग में लोग अपनी तपस्या से देवी-देवताओं को प्रसन्न कर सकेंगे । आत्मा और परमात्मा के मिलन से इस युग में सभी लोग सुखी होंगे । चारों युगों में सतयुग ही एक ऐसा युग है जिसे स्वर्णिम युग कहा जाएगा ।
 तो दोस्तों इस लेख में हमने आपको यह बताया कि सतयुग कैसा होगा ? आपको यह लेख पढ़कर कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here