क्या भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है

0
6
Is India on its way to becoming a global guru?

क्या भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है :- 2014 से पहले का समय भारत के लिए मायूसी भरा था। इस समस्या का दोष मैं किसी सरकार को नहीं दूंगा क्योंकि उससे पहले पूरी दुनिया में आर्थिक मंदी थी तो भला हमारा भारत इस समस्या से कैसे बचा रह सकता था ? फिर भी अगर भारत चाहता तो दुनिया में अपना वर्चस्व कायम कर सकता था लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि कहीं ना कहीं हमारे देश की सरकारों में कुछ कमी जरूर थी।

 यही कारण है कि भारत को पहले सपेरों का देश कहा जाता था, दुनिया हीन भावना से भारतीयों को देखती थी, जो भारतीय विदेशों में काम करते थे वे वहां पर स्वयं को गर्व से भारतीय नहीं कह पाते थे। ताकत के मामले में भी भारत कम तो नहीं था परंतु खुद को संयमित रखता था, जिसके फलस्वरूप चीन घुसपैठ करता था और पाकिस्तान आतंकवाद फैलाता था ।
लेकिन 2014 के बाद सब कुछ बदल सा गया है। आज भारत पाकिस्तान को घुटनों पर ला दिया है और चाइना को भी आंख दिखाने लगा है । डोकलाम में तो चीन को भारत के सामने झुकना ही पड़ गया था। इससे पता चलता है कि भारत कितना मजबूती से आगे बढ़ रहा है ।
आर्थिक दृष्टि से भी भारत आज दुनिया में महत्वपूर्ण स्थान रखता है और आशा है कि 2030 तक भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की तीसरी बड़ी इक्नॉमी होगी । जब से केंद्र में मोदी सरकार आई है तब से भारत तेजी के साथ तरक्की कर रहा है । आज विदेशों में रहने वाले भारतीय लोग भारतीय होने पर गर्व करते हैं । ऐसे में सभी भारतीयों को फिलहाल ऐसा लगने लगा है कि भारत अब पुनः विश्वगुरु बनने जा रहा है ।
जिस तरह से कोरोना की महामारी आई है और सारी दुनिया में अफरा-तफरी मची हुई है उसे देख कर तो ऐसा लगता है कि सारे समीकरण बिगड़ रहे हैं । लेकिन इस परिस्थिति का सामना भारत डटकर रहा है और यह साबित कर रहा है कि वह वास्तव में विश्व गुरु का हकदार है । एक तरफ जहां चीन पूरी दुनिया को वायरस का जहर बांट रहा है वहीं भारत पूरी दुनिया को दवा बांट रहा है । इसे लेकर पूरी दुनिया के नेता भारत और भारत के प्रधानमंत्री की तारीफ कर रहे हैं जो इस बात का संकेत है कि भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है ।
 चाइना सुपर पावर बनना चाहता है, रूस भी अपना वर्चस्व कायम रखना चाहता है , अमेरिका अपने सुपर पावर का स्टेटस बचाने के लिए कुछ भी कर सकता है । इस प्रतिस्पर्धा में भारत भी लग सकता है लेकिन भारत को सुपर पावर नहीं बनना है और ना ही दुनिया पर राज करना है। भारत को विश्व गुरु बनना है, दुनिया को रास्ता दिखाना है जो किसी भी सुपर पावर से अच्छा है । खैर फिलहाल लंबी राह तय करनी है, लेकिन यदि आपके मन में भी यह प्रश्न है कि क्या भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है तो मेरा जवाब है हां बिल्कुल ऐसा हो रहा है और भारत अपने मंजिल की तरफ निकल चुका है।
Previous articleBenefits Of Peepal पीपल के अनेक अनसुने फायदे
Next articleलड़की और औरत में क्या फर्क होता है आइए जानते हैं
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here