घर में बासुरी रखने से नहीं होती है कभी पैसों की कमी

0
6

 

There is never a shortage of money by keeping the flute in the house

 

 

घर में बासुरी रखने से नहीं होती है कभी पैसों की कमी :- भगवान श्रीकृष्ण हमेशा अपने साथ में बांसुरी रखते थे और मधुर ध्वनि में बजाते भी थे। दरअसल बासुरी भगवान श्री कृष्णा बेहद प्रिय है । यही कारण है कि भगवान बांसुरी को हमेशा अपने साथ रखते थे ।लेकिन क्या आपको पता है कि बांसुरी से वास्तु दोष भी दूर किया जा सकता है । जी हां यह बिल्कुल सही है । अपने घर के किसी भी दीवार पर अथवा मंदिर के बाहर यदि कोई बासुरी का जोड़ा लटका देता है तो घर में पैसों का आगमन पढ़ने लगता है ।

दरअसल  इस तरह से बांसुरी को जिन भी घर में रखा जाता है उस घर में सकारात्मक ऊर्जा प्रवेश करती है जिससे बहुत थी फायदा मिलता है । ऐसा कई बार देखा गया है कि घर का कोई भी सदस्य कोई नया काम करता है तो काम शुरु होने से पहले ही कठिनाई आने लगती है और काम बिगड़ जाता है । ऐसी परिस्थिति में मोर पंख लगा हुआ बासुरी घर की दीवार पर लगाया जाए तो सारे काम बनने लगते हैं और अपने आप सफलता मिलने लगती है।

  यदि आप बच्चों के कमरे में बांसुरी लगाना चाहते हैं तो सफेद रंग का बासुरी लगाएं । वही यदि आप पति पत्नी के कमरे में बांसुरी लगाना चाहते हैं तो कमरे में हरे रंग की बांसुरी को कहीं छुपा कर रख दीजिए। ऐसा करने से पति पत्नी के बीच में प्यार बढ़ने लगता है तथा साथ साथ एक दूसरे के प्रति सम्मान की भावना भी बढ़ने लगती है।

Previous articleइंसान प्रकृति का जब-जब अतिक्रमण करेगा तब तब उसे पछताना पड़ेगा
Next articleऐसे लोगों को जन्म और मृत्यु से मिल जाती है मुक्ति
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here