लड़की और औरत में क्या फर्क होता है आइए जानते हैं

0
12
What is the difference between a girl and a woman
लड़की और औरत में क्या फर्क होता है आइए जानते हैं :-  कई लोगों के मन में तरह-तरह के ख्याल आते ही रहते हैं जिनका उत्तर जानने के लिए आदमी बेचैन रहता है। ऐसा सब के साथ होता है । आप भी अपने जीवन में बहुत सारे ऐसे सवालों का जवाब जानना चाहते होंगे जिसके बारे में आपको पता ही नहीं हो । तो यहां पर भी हम आपके लिए एक उत्सुकता भरे प्रश्न का उत्तर लेकर आए हैं जिसके बारे में आप अवश्य ही जानना चाहेंगे। तो चलिए हम सभी यह जान लेते हैं कि लड़की और औरत में क्या फर्क होता है।
 सामान्यतः हमारे समाज में लोग उम्र के अंतर के आधार पर लड़की और औरत में फर्क निकालते हैं । इस अवस्था में वह लड़की आती है जो किशोरावस्था या इस अवस्था को पार कर चुकी है। इनको हम लड़की शब्द से ही परिभाषित करते हैं । सामान्यतः 25 पार कर जाने पर और विवाह के पश्चात के पहनावे पहनने के आधार पर लड़कियां औरत की श्रेणी में आ जाती है।
  विवाह के आधार पर भी औरत और लड़की में फर्क होता है । इस आधार पर जिन लड़कियों का विवाह नहीं हुआ होता है उन्हें लड़की ही कहा जाता है। लेकिन जिनका विवाह हो जाता है उन्हें औरत कहा जाता है । जो स्त्रियां बाल बच्चों वाली होती है वह औरत की श्रेणी में आती है।
  खैर जो भी हो लेकिन औरत और लड़की में लैंगिक समानता होती है । अतः इनको फर्क की निगाहों से देखना थोड़ा अजीब लगता है । लेकिन उम्र के आधार पर इन दोनों में फर्क होता है।
Previous articleक्या भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है
Next articleइंसान प्रकृति का जब-जब अतिक्रमण करेगा तब तब उसे पछताना पड़ेगा
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here