Home dream thoughts तीन अशुभ सपने 3 ashubh sapne

तीन अशुभ सपने 3 ashubh sapne

0
SHARE
तीन अशुभ सपने 3 ashubh sapne
 
 
 
 
तीन अशुभ सपने
 
 
 
 

तीन अशुभ सपने 3 ashubh sapne :- हर आदमी जब कोई सपना देखता है तो उसके बारे में जानने के लिए उतावला हो जाता है । ऐसा आपके साथ भी होता होगा । हालांकि कुछ लोग स्वप्नफल पर विश्वास नहीं करते हैं मगर वह लोग भी यह जानना जरूर चाहते हैं कि सपने आखिर कहां से आते हैं और क्यों आते हैं । अर्थात हर आदमी सपनों के बारे में किसी ना किसी रूप में जानना अवश्य चाहता है । खैर हम इस लेख में भारतीय ज्योतिष के आधार पर यह बतलाएगे की 3 अशुभ सपने कौन-कौन से होते हैं जिन्हें अगर व्यक्ति देख ले तो उसे अशुभ फलों की प्राप्ति होती है । तो आइए बिना किसी देरी के तीन अशुभ सपने के बारे में जान लेते हैं जो आप सबके लिए बेहद ही महत्वपूर्ण हो सकता है ।

तीन अशुभ सपने 3 ashubh sapne
( 1 ) परछाई देखना :- उजाले में खड़े होने पर अपनी परछाई हर किसी को नजर आ ही जाती है । आप भी जरूर अपनी परछाई उजाले में देखते होंगे। लेकिन सपने में परछाई बार-बार नहीं दिखता और हर किसी को नहीं दिखता है। लेकिन जब दिखता है तो व्यक्ति के लिए अशुभ फल लेकर आता है। दरअसल स्वप्न ज्योतिष का ऐसा मानना है कि सपने में परछाई देखना अशुभ समाचार मिलने का सूचक होता है। यानी कि आपने परछाई का सपना देखा है तो निकट भविष्य में आपको अशुभ समाचार सुनने को मिल सकता है।
( 2 )  जलती हुई अंगीठी देखना :- अंगीठी का सपना भी कई बार इंसान को दिख जाता है । यह सपना दो रूपों में दिखाई देता है एक तो जलती हुई अंगीठी देखना और दूसरी बुझी हुई अंगीठी देखना। तो स्वप्न ज्योतिष का ऐसा मानना है कि सपने में जलती हुई अंगीठी देखना बड़ा ही अशुभ होता है। अतः जातक को जब यह सपना दिख जाए तो उसे अनुमान लगा लेना चाहिए कि उसके साथ कुछ अशुभ होने वाला है ।
( 3 ) चमगादड़ लटका देखना :- वास्तविक जीवन में पेड़ों पर चमगादड़ देखना इंसान के लिए आम बात है । लेकिन सपने में पेड़ों पर चमगादड़ लटका देखना बड़ा ही खराब संकेत होता है। स्वप्न शास्त्र सपना को एक अशुभ सपना मानता है अतः जब भी आपको यह सपना दिख जाए तो समझ लीजिए कि आपके साथ कुछ अशुभ हो सकता है ।
 मित्रों इस लेख में हमने आप सब को यह बताया कि 3 अशुभ सपने कौन-कौन से होते हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here