Home dream thoughts पांच दुख के सपने 5 dukh ke sapne 

पांच दुख के सपने 5 dukh ke sapne 

0
SHARE
पांच दुख के सपने 5 dukh ke sapne 
 
 
 
 
 
पांच दुख के सपने
 
 
 
 

पांच दुख के सपने 5 dukh ke sapne :- दुनिया के सभी लोग सपनों के बारे में अलग-अलग तरह से सोचते हैं। कुछ लोग ऐसा मानते हैं कि सपने पारलौकिक शक्तियों के तरफ से हमारे जीवन में घटने वाली घटनाओं का संकेत देने के लिए आते हैं तो वहीं कुछ लोग ऐसा भी मानते हैं कि सपने हमारे अधिक सोचने विचारने की वजह से रात को सोते समय दिखाई देते हैं। खैर जो भी हो लेकिन सपने तो सपने होते हैं और इनके बारे में हर कोई जानना चाहता है। तो इस लेख में हम सब पांच दुख के सपने के बारे में जानेंगे। क्या आप भी पांच दुख के सपने के बारे में जानने के लिए बेताब है। यदि हां तो इस लेख में आपका तहे दिल से स्वागत है ।

( 1 ) रत्न चमकीले होते हैं और देखने में बहुत ही प्यारे लगते हैं । लेकिन क्या आपने सपने में भी रत्न देख लिया है । यदि हां तो यह सपना आपके लिए खराब संकेत है तथा व्यय और दुख होने का संकेत लेकर आया है। यानी कि आपने यह सपना देखा है तो समझ लीजिए कि निकट भविष्य में आपको दुख होगा और व्यय होगा।
( 2 ) यदि हवा भी तेजी से चलते हुए सपने में दिख जाए तो अच्छा सपना नहीं माना गया है। स्वप्न ज्योतिष का कहना है कि यह सपना एक ऐसा सपना है जो दुखों में वृद्धि होने का संकेत होता है। अर्थात आपके दुखों में निकट भविष्य में वृद्धि हो सकता है।
 
 ( 3 ) कई बार इंसान को आग में कपड़ा जलाना भी दिख जाता है जो कि एक बेहद नकारात्मक सपना होता है। स्वप्न ज्योतिष का कहना है कि यह सपना अनेक दुखों के मिलने का संकेत होता है। तो ऐसा मान कर चलिए कि निकट भविष्य में अनेक दुख से सामना करना पड़ेगा ।
( 4 ) सपने में कोठी देखने का सपना ऐसा सपना है जो देखने में तो भले ही अच्छा लगे लेकिन इसका स्वप्नफल बड़ा ही खराब होता है। स्वप्न ज्योतिष का ऐसा मानना है कि यह सपना दुख मिलने का योग लेकर आता है। तो यह सपना देखने के पश्चात समझ लीजिए कि दुख मिलने का योग बन रहा है।
 ( 5 ) क्या आपने सपने में चटनी खाना देख लिया है यदि हां तो यह आपके लिए नकारात्मक स्वप्न फल देने वाला सपना है। ऐसा माना जाता है कि यह सपना दुखों में वृद्धि का संकेत लेकर आता है। तो मान कर चलिए कि आने वाले समय में आपके दुखों में वृद्धि होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here