Home dream thoughts 8 दुख के सपने 8 dukh ke sapne

8 दुख के सपने 8 dukh ke sapne

0
SHARE

8 दुख के सपने 8 dukh ke sapne

8 दुख के सपने
8 दुख के सपने 8 dukh ke sapne :-  भारत में प्राचीन काल से ही सपनों पर यकीन किया जाता रहा है। कई हिंदू धर्म ग्रंथों में सपनों के बारे में वर्णन मिलता है। तुलसीदास जी ने अपने द्वारा रचित रामचरितमानस में सपनों का उल्लेख किया है। शास्त्रों में भी सपनों के बारे में बताया गया है । स्वप्न शास्त्र तो इसी विषय पर आधारित है । तो यह भारतीय संस्कृति से जुड़ा हुआ है इसलिए हमारे देश में लोग स्वप्न विचार पर यकीन रखते हैं । दोस्तों यहां पर हम आपको 8 दुख के सपने के बारे में बताने जा रहे हैं । 8 दुख के सपने के बारे में आपको भी जानना है तो यह लेख पूरा पढ़िए उत्तर मिल जाएगा ।
( 1 ) स्वप्न में हुकुम का इक्का देखना एक ऐसा सपना है जो यदि दिख जाए तो व्यक्ति के लिए दुख और निराशा मिलने का योग लेकर आता है। तो यह सपना देखने के बाद सतर्क रहना चाहिए।
( 2 ) जातक के लिए उबासी लेने का सपना भी अच्छा नहीं होता है। यह सपना उसके लिए निकट भविष्य में दुख मिलने का संकेत होता है।
( 3 ) आग में कपड़ा जलाने का सपना एक ऐसा सपना है जो ना देखने में अच्छा लगता है और ना ही जिसका स्वप्न फल अच्छा होता है। दोस्तों यह सपना अनेक दुख मिलने का संकेत होता है। ऐसे में व्यक्ति को सतर्क रहना चाहिए तथा सुखद जीवन के लिए ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए ।
( 4 ) सपने में उल्लू देखना भी दुख का संकेत होता है । ऐसे में जो व्यक्ति यह सपना देखता है उसको निकट जीवन में दुख मिलता है।
( 5 ) गधे की चीख सुनने का सपना एक ऐसा सपना है जिसका फल व्यक्ति के लिए आने वाले समय में दुख होने की ओर इशारा करता है । तो यह सपना देखने के बाद व्यक्ति को दुख हो सकता है ।
( 6 ) चमड़ा देखना भी यदि सपने में हो जाए तो यह सपना अच्छा संकेत नहीं देता है । ऐसा कहा जाता है कि यह सपना व्यक्ति के लिए दुख होने का योग लेकर आता है । तो यह सपना देखने के बाद दुख से सामना करना पड़ सकता है।
 ( 7 ) यदि किसी को सपने में बधाई संदेश मिलता है तो यह देखने में तो अच्छा लगेगा लेकिन उसका स्वप्न फल खराब होता है और दुखद समाचार मिलने का सूचक होता है ।
( 8 ) स्वप्न में कोठी यदि किसी को दिख जाए तो उसे सतर्क हो जाना चाहिए क्योंकि यह सपना उसके लिए दुख मिलने का संकेत होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here