क्या मरते समय सच में यमदूत लेने के लिए आते हैं

1
19
क्या मरते समय सच में यमदूत लेने के लिए आते हैं
 
 
 
 
क्या मरते समय सच में यमदूत लेने के लिए आते हैं
 
 
 
 

क्या मरते समय सच में यमदूत लेने के लिए आते हैं :-   हां बिल्कुल ऐसा माना जाता है कि मनुष्य को मृत्यु से कुछ दिनों पहले कोई ना कोई उसकी आत्मा को अपने साथ ले जाने के लिए जरूर आता है और उस व्यक्ति को मरने से पहले खुद के मृत परिजन भूत प्रेत और यमदूत दिखाई देने लगते हैं।

  गरुड़ पुराण के अनुसार जब साधारण मनुष्य की मौत होने वाली रहती है तब उसे ले जाने के लिए दो यमदूत उसके पास आते हैं। यमदूत को मनुष्य के द्वारा किए गए कर्म के अनुसार ही भेजा जाता है। यदि मनुष्य बहुत पापी है तो यमदूत की आकृति बहुत भयानक होती है। यह यमदूत मौत से कुछ दिनों पहले ही मनुष्य के सामने मंडराने लगते हैं। इन भयानक यमदूतों को देखकर मनुष्य व्यग्र हो जाता है और मल मूत्र त्याग करने लगता है।
मृत्यु के समय यमदूत व्यक्ति के आत्मा को काल पास में बांधकर खींच लेते हैं और घसीटते हुए संयमनीपूरी ले जाते हैं । इसी लोग में यमराज कालित्रि नामक राजमहल में निवास करते हैं।
 रास्ते में जीवात्मा और  दोनों यमदूत एक ही स्थान पर आराम करने के लिए रुकते हैं। वहां जीवात्मा अपने प्रिय जनों को याद करके हाहाकार करके रोता है । तब यमदूत उसे दांटकर चुप कराते हैं।
 तो मित्रो हमने आप सबको यहां पर यह बताया कि क्या मरते समय सच में यमदूत लेने के लिए आते हैं। आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा तथा अपने दोस्तों के साथ इस लेख को शेयर जरूर कीजिएगा धन्यवाद मित्रों।
Previous articleभगवान शिव के इन मंत्रों से आप पूरा कर सकते हैं अपने परिवार की हर जरूरत
Next articleक्या बजरंगबली के नाम से सब रोगो का नाश हो जाता है आइए जानते हैं
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here