सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना

0
12
सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना
सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना
सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना :- इंसान जीवन भर किसी ना किसी सपने के पीछे जरूर भागता है । क्योंकि सपने देख कर उसे पूरा करने का प्रयास सभी लोग करते हैं । लेकिन यह सपने नींद में नहीं बल्कि जागते वक्त आते हैं । लेकिन जो सपने नींद की अवस्था में आते हैं ज्योतिष व्यर्थ नहीं मानता है बल्कि ज्योतिष शास्त्र का कहना है कि इनके द्वारा भी इंसान को संकेत प्राप्त होते हैं जो अच्छे भी होते हैं और बुरे भी होते हैं।
 कई बार ऐसा होता है कि कोई आदमी सोते समय सपने में स्वयं को पुस्तक पढ़ते हुए देख लेता है। ऐसे में वह यह जानने का प्रयास करता है कि सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना कैसा सपना होता है। अतः हम आप सबको इसी सपने का मतलब बताने जा रहे हैं । इस लेख को पढ़कर इस सपने का मतलब आप भी जान सकते हैं।
  स्वप्न ज्योतिष के अनुसार सपने में अपने आप को पुस्तक पढ़ते देखना बहुत ही अच्छा सपना होता है। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यह सपना देखने के बाद व्यक्ति का समाज में मान प्रतिष्ठा बढ़ता है । इसलिए नींद में यह सपना जब भी दिख जाए तो आप की समाज में मान प्रतिष्ठा बढ़ सकती है।
Previous articleसपने में शैल्य चिकित्सक शैल्य चिकित्सा कर दे
Next articleसपने में बच्चों को पुस्तक पढ़ते देखना
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here