क्या होता है टावर ऑफ़ लाइसेंस तथा या किस धर्म से संबंधित है

0
10
क्या होता है टावर ऑफ़ लाइसेंस तथा या किस धर्म से संबंधित है 
क्या होता है टावर ऑफ़ लाइसेंस
क्या होता है टावर ऑफ़ लाइसेंस तथा या किस धर्म से संबंधित है — मित्रों भारत में टावर आफ लाइसेंस पारसी समुदाय के लोगों से संबंधित है । पारसी धर्म में यह अंतिम संस्कार का विशेष स्थान होता है ।
 पारसी धर्म के लोगों की जब मृत्यु हो जाती है तो उनका अंतिम संस्कार जिस स्थान पर किया जाता है उसे टावर आफ लाइसेंस कहा गया है। इसके बीच में खाली गड्ढा होती है और चारों तरफ से दीवार बनी हुई होती है।
 दरअसल पारसी धर्म के लोग मृतक को ना ही दफनाते हैं और ना ही जलाते हैं । वे लोग मृतक के शरीर को कौवा गरुड़ अथवा अन्य पंछियों के लिए खाने के लिए छोड़ देते हैं । पारसी लोग आग पानी और पृथ्वी को बेहद ही पवित्र मानते हैं इसलिए वे मृत शव को इन्हें ही समर्पित करके आसमान को समर्पित करते हैं । इसलिए वह मृतक शरीर को ऊंचे टावर पर रख देते हैं जिससे पंछी उसे खा सकें।
 मुंबई में भी मालाबार हिल्स मे एक टावर आफ लाइसेंस बना हुआ है इसकी स्थापना 19वीं सदी में किया गया था। इसमें एक ही लोहे का दरवाजा बना हुआ है।
 मित्रों यहां पर हमने आप सब को यह बताया कि क्या होता है टावर आफ लाइसेंस तथा यह किस धर्म से संबंधित है । आशा करते हैं कि यह लेख आप सबको पसंद आया होगा। आप सब को यह आलेख कैसा लगा हमें कमेंट करके जरुर बताइएगा तथा अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर कीजिए।
Previous articleप्रभु श्री राम जी और श्री हनुमान जी का बेहद ही सुंदर और ज्ञानवर्धक प्रसंग आप भी जरूर पढ़िए
Next articleओम नमः शिवाय मंत्र के बारे में आप भी जानिए
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here