प्रभु श्री राम जी और श्री हनुमान जी का बेहद ही सुंदर और ज्ञानवर्धक प्रसंग आप भी जरूर पढ़िए

1
31
प्रभु श्री राम जी और श्री हनुमान जी का बेहद ही सुंदर और ज्ञानवर्धक प्रसंग आप भी जरूर पढ़िए
 
 
 
 
 
प्रभु श्री राम जी और श्री हनुमान जी का बेहद ही सुंदर और ज्ञानवर्धक प्रसंग
 
 
 
 
 

प्रभु श्री राम जी और श्री हनुमान जी का बेहद ही सुंदर और ज्ञानवर्धक प्रसंग आप भी जरूर पढ़िए 

 ( 1 ) ——- जब हनुमान जी संजीवनी बूटी लाने के लिए पर्वत लेकर लौट रहे थे तब भगवान से कहते हैं –  प्रभु राम जी आपने मुझे संजीवनी बूटी लाने के लिए नहीं भेजा था बल्कि आपने तो मेरा भ्रम दूर करने के लिए यहां पर भेजा था और आज यह मेरा भ्रम टूट गया है की केवल मैं ही आपका नाम जपने वाला सबसे बड़ा भक्त हूं बल्कि ऐसा नहीं है ।
भगवान बोले – ” कैसे ?”
हनुमान जी बोले वास्तव में मुझसे भी बड़े भक्त तो भरत जी हैं । जब मैं संजीवनी लेकर लौट रहा था तब मुझे भरत जी ने बाण मारा और मैं गिर गया तो भरत जी ने ना तो संजीवनी बनाई ना ही बैध बुलाया। कितना भरोसा है उन्हें आपके नाम पर उन्हेंने कहा कि “यदि मन वचन और शरीर से श्री राम जी के चरण कमलों में मेरा निष्कपट प्रेम हो यदि रघुनाथ जी मुझ पर प्रसन्न हो तो यह बानर पीड़ा और थकावट से रहित होकर एकदम स्वस्थ हो जाए । भरत जी के इतना कहते ही मैं उठ कर बैठ गया सच में कितना भरोसा है भरत जी को आपके नाम पर।
 शिक्षा ———– इस कथा से यह शिक्षा मिलती है कि हम सभी भगवान का नाम तो लेते ही हैं परंतु भगवान पर भरोसा नहीं करते हैं । अगर भरोसा करते भी हैं तो अपने पुत्रों एवं धन पर कि बुढ़ापे में बेटा ही सेवा करेगा और धन ही साथ देगा। परंतु उस समय हम सभी भूल जाते हैं कि जिस भगवान का नाम हम जप रहे हैं वह यहीं पर हैं किंतु हम सब भरोसा नहीं करते हैं। बेटा सेवा करे ना करे पर भरोसा हम उसी पर करते हैं ।
( 2 ) ——–
 
 
दूसरी बात प्रभु बाण लगते ही मैं गिरा पर्वत नहीं गिरा क्योंकि पर्वत तो आप उठाए हुए थे और मैं अभिमान कर रहा था कि मैं उठाए हुए हूं मेरा दूसरा अभिमान भी टूट गया।
शिक्षा ———
हम सभी की यही सोच है कि अपनी गृहस्थी का बोझ तो हम ही उठाए हुए हैं जबकि सत्य है कि हमारे नहीं रहने पर भी हमारा परिवार चलता ही रहता है ।
जीवन के प्रति जिस व्यक्ति की कम से कम शिकायतें हैं वहीं इस जगत में अधिक से अधिक सुखी है। वरना तो सभी दुखी है चाहे वह अमीर हो चाहे वह गरीब हो।
Previous articleभाग्य खराब होने के क्या कारण होते हैं आइए जानते हैं
Next articleक्या होता है टावर ऑफ़ लाइसेंस तथा या किस धर्म से संबंधित है
मेरा नाम "संजय कुमार मौर्य " है और मैं देवरिया ( यूपी ) का रहने वाला हूं । मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, कवि और कथाकार हूं । मैं हिंदी साहित्य में रुचि रखता हूं और हमेशा कविताओं और कहानियों का सृजन करता रहता हूं। इसके अलावा भी हमारे पास बहुत सारी चीजों की जानकारियां है जिसे मैं इस ब्लॉग के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं। दोस्तों हमें अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करना बहुत ही अच्छा लगता है अतः इसी उद्देश्य से हमने सन 2018 जनवरी में www.sitehindi.com को शुरू किया, जो कि आज एक सफल वेबसाइट बन चुका है और निरंतर वेब की दुनिया में उचाईयों की ओर बढ़ रहा है । इसके अलावा मेरा उद्देश्य अपने राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा करना है और इसे जन-जन तक पहुंचाना भी है । अगर मैं अपने इस उद्देश्य में सफल होता हूं तो मैं स्वयं को भाग्यशाली समझूंगा। आप भी हमारे इस ब्लॉग को पढ़े और हमारे इस उद्देश्य को पूरा करने में हमारी सहायता करें । धन्यवाद !

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here