Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी

0
27
Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी
 
 
 
Jija saali ki best shayari in hindi
 
 
 
 
 
Jija saali ki best shayari in hindi :- जीजा साली का रिश्ता हमेशा से ही बहुत ही खास और मिठास भरा रहा है। इस रिश्ते में मजाक का एक अलग ही महत्व है । इस रिश्ते में मजाक के साथ-साथ शायरी का भी बहुत योगदान होता है । शायद ही कोई ऐसा जीजा साली का रिश्ता हो जिसमें शायरी को जगह ना मिले। जीजा साली के रिश्ते में शायरी कहीं ना कहीं से आ ही जाती है। यही कारण है कि हम आपके लिए लेकर आए हैं जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी जिसे पढ़कर आप बेहद ही लुप्त उठा सकते हैं । तो देर किस बात की है चलिए शायरी का सिलसिला शुरू किया जाए ताकि आप भी बेहतरीन शायरी का आनंद उठा सकें।
Jija saali ki best shayari in hindi

(1)

जीजा जी आप कली को यू छोरा ना कीजिए
नाजुक कलाई को इस तरह मरोड़ा ना कीजिए ।
(2 )
नाजुक कलाई कहो तो मैं थाम लेता हूं
दिन-रात आपका नाम सुबह शाम लेता हूं ।
(3 )
कच्ची कली हूं मैं नाजुक गाल है मेरा
चढ़ती हुई जवानी सोलह साल है मेरी ।
(4 )
सोलह साल की साली घरवाली होती है
उसकी चाल कयामत की बड़ी निराली  होती है ।
(5 )
नहीं समझते आप क्या हाल है मेरा
 छू कर तो देखिए कैसा नाजुक गाल है मेरा ।
(6 )
नजरों से गाल को छूते हैं हाथों से नहीं
खाने से भूख मिटती है बातों से नहीं ।
(7 )
साली जी आप छोड़ दो बन ठन के निकलना
वक्त जब आएगा तो अपने जीजा से मिलना।
( 8 )
मिलने का वक्त आ चुका है मिलकर जाए साली से
बनकर फूल टूट कर गिर जाएगी डाली से ।
(9 )
मिलने का वक्त होता तो आता तो तुझसे
मिलने को बन्ना फूल टूट कर गिर जाएगी डाली से।
( 10 )
कली से फूल बन गई वक्त आया खिलने का
जीजा जी आपको दावत है साली से मिलने का ।
(11) Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी
दावत की जरूरत क्यों है अपनी खाने को
रखना संभाल दौलत को डर है जमाने का ।
(12 )
संभाल के तो रखती हूं चोरों को क्या दोष
चोर पीछे पड़ जाता है चलती हूं जिधर से ।
(13 )
घर को खुला छोड़ दो चोर का क्या दोष है
सब कहते तुझको की मस्ती में मदहोश है।
( 14 )
मस्ती से मदहोश है कहना सबका ठीक है
मेरी भरी जवानी आपके आंखों के नजदीक है।
( 15 )
जीजा की आंखों में सब कुछ लुटा देना जानकर
जो चाहा है उनको भी थोड़ा बहुत तू दान कर।
(  16 )
किस-किस को दान करूं भंडार मेरा खाली है
 आपको चाहने वाली आशिक भोली भाली है।
( 17 )
किस गरीब को दान किया माल सब भंडारा का
 जीजा को देती हक में तो  लगता प्यार का ।
(18 )
जिस गरीब को दान दिया साली खुशनसीब है
 आपके जैसे जीजा पाकर  साली खुशनसीब है।
( 19 )
मुझको पाना है तो दीदी को तुम बोल दो
 अपने दिल की बात दीदी के सामने खोल दो ।
(20 ) Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी
दीदी से क्या कहना आपकी साली जो तैयार है
 अब आप मुझे ले जाए कोशिश सब बेकार है।
( 21 )
शादी करके चले जाओ मौज करोगी  साथ में
अभी कच्ची कली हो तुम सौंप दो किसी के हाथ में।
( 22)
 जीजा जी आप डर गए देखकर अपनी साली को
साली को कुछ भी ना देते सब देते हैं घरवाली को ।
(23 )
कुछ नहीं है मेरे पास क्या दूं अपनी साली को
 अब ना दिखा और मुझे अपने होठों की लाली को ।
( 24 )
देखने की चीज देख लो खाने की आशा छोड़ दो
 दे रही थी लिए नहीं अब पीने की आशा छोड़ दो ।
(25 )
अपना गुस्सा जीजा पर क्यों उतार रही हो
अब तक वही काम करो जिसमें दोनों की भलाई हो ।
(26 )
साले और घरवाली दोनों चीज है दिल बहलाने की
पसंद हो  अपनी और कायदा हो  फुसलाने की।
( 27 )
सपनों में आई थी आप सोए थे बेखबर
जल्दी ही मुलाकात होगी थोड़ा करो सबर ।
(28 )
जो तुम ही सपनों में आती हो रोज-रोज
 हुस्न का है जलवा दिखा के तड़पाती हो रोज-रोज।
 (29)
 डर लगता है आपसे आपको बड़े नादान है
मुझे घूरते हैं क्या  हम आप पर कुर्बान है  ।
(30 )  Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी
डरने की कोई बात नहीं हिम्मत से काम लो
 बहकने लगा हूं मैं मुझे बाहों में थाम लो ।
(31 )
बाहों में थामने के लिए हिम्मत चाहिए
वहकने के बाद थामने के लिए किस्मत चाहिए।
( 32 )
किस्मत का लिखा बदल लो मेरी जिंदगी में आकर
रखा करूंगा मैं तुम्हें सीने से लगाकर ।
(33 )
दुनिया बड़ी जालिम है जलती जीजा साली से
सीने से लगाओगे तुम हमको कह देगी घरवाली से।
( 34 )
दुनिया की परवाह नहीं जब लगती मेरी साली
करेगा क्या जमाना क्या करेगी मेरी घरवाली ।
(35 )
दीदी को पता चलेगा तो मिलने ना देगी आपसे
सब करेगी आप पर कह देगी मेरी बाप से ।
(36 )
कहूंगा ससुर से कर दो साली की सगाई
अकेले कैसे रहेगी बना लो जमाई ।
(37 )
आप ही बन जाइए मेरे बाप के जमाई
आप जीजा से पति बन जाए मैं साली से लुगाई।
( 38 )
साली से लुगाई बनाना आसान नहीं है
 जीजा तुम्हारा इतना नादान नहीं है ।
(39 )
साली के साथ रहकर आप होशियार बन गए
 जब से जवान हुई है मेरी तलवार बन गए ।
(40 )
जवानी आए तुझपे तो मत कर यूं बर्बाद
जवान हो तुम मिल जाएगा जल्द ही दमाद ।
Jija saali ki best shayari in hindi जीजा साली की बेस्ट शायरी इन हिंदी
(41)
 आप साथ है मेरे तो दमाद मिल जाएगा
जिस कली को छू ले वह कली खिल जाएगा।
( 42 )
कली खिलने के पहले छूने की इजाजत चाहिए
 तू दौलत है किसकी वही दौलत चाहिए ।
(43 )
दौलत है किस काम की पर खजाना आपकी
 सच पूछिए खुदा कसम दीवानी आपकी।
( 44 )
दीवाना मैं हो गया हूं साली के फेरे में
अब दिल नहीं रहता घरवाली के घेरे में ।
(45 )
इसलिए करती हूं बना लो अपनी घरवाली
 एक  घर में रह सकती है घरवाली और साली।
( 46 )
अपना प्यार है लक्ष्मी तूने किया  है दान
तेरा प्यार पाकर जीवन को मिला वरदान ।
(47 )
भूल जाते हैं कसम लोग पांव फिसल जाते हैं
 बेहया पन के कारण दूसरों का दिल दुखाते हैं।
( 48 )
तुम्हारा प्यार पाकर मैं सब कुछ छोड़ दिया
मरने जीने का रिश्ता तुम से जोड़ लिया ।
(49 )
पत्र लिखना जल्दी प्यारे भूल क्षमा कर दे देकर मधुर चुंबन मेरा
दिन भर दे कितनी ठोकर खा चुकी मैं
अंधेरी राहों में मत तड़पाओ बालम आजा मेरी बाहों में
( 50) Jija saali ki best shayari
 चूस  कर रस मधुमक्खी उड़ जाया करती हैं
 बेवफाई प्यार पर लड़कों को रुलाया करती हैं।
(51)
क्यों मुझे तंग करते अभी तो मैं कली हूं
 प्यार की नाजुक बगिया में प्यार से पली हूं ।
( 52 )
तंग नहीं करूंगा तो कैसे कटेगी जवानी
कली तो अब हो नहीं हो फूलों की रानी।
( 53 )
कहती हूं सच क्यों तंग करते हो
 छोटी सी चीज पर क्यों मरते हो ।
(54)
 वक्त है तंग करने का खिली हुई तुम फूल हो
मत करो बहाना तुम मेरी बुलबुल हो ।
(55 )
कहना हो जो कह लो मैं बिल्कुल बच्ची हूं
 झूठ नहीं बालम कहती बिल्कुल सच्ची हूं ।
(56 )
तो भाई तुम्हारी ही जीत रहे
भूल ना जाना प्यारी पक्का प्रीत रहे ।
(57 )
टूट गया प्यार फूटी तकदीर टूटने से पहले
 कसम खाने जा रहे थे साथ रहने से पहले।
( 58 )
तकदीर दोनों की थी  फूटी अब छोड़ो मेरी आश
तलाश करो दूसरी तुम हो अब निराश।
(  59 )
तेरा चेहरा अजीब सा दूसरा नहीं  भाता है
 मेरा मन तुझे पाने को बार-बार चाहता है।
(60 )
बात वैसे है तो महीना भर इंतजार कर
प्यार की नया सोच समझकर तैयार कर ।
(61 )
तैयार हो चुकी है तुम भूल गई हो ख्याल
क्या कहूं कहां नहीं जाता  ऐसी तेरी चाल ।
(62)
 तैयार किया ठीक तुमने लेकर किराया
मैं चुप रहती थी जब खोलते थे तुम साया ।
(63 )
भला कौन नहीं लेता तैयार करके वक्त मुनाफा
पता चलना इसलिए आज मुझसे हो गई खफा ।
(64 )
जो हुआ अच्छा अब ना करो तंग
बाप मेरा जान गया अब प्यार होगा तेरे संग।
( 65 )
बाप से डरा नहीं करती प्यार करने वाली
चिंता सारी छोड़ दे यह मेरी दिल वाली।
( 66 )
अटपट बकना  बंद कर मुझ पर नहीं दिखाओ जोर
सताओगे ज्यादा तो मेरी सभा में कर दूंगी बोर ।
(67 )
जोश दिखाओगे ज्यादा तो होगी बहुत खराबी
आ जाऊंगा अपनी पार्टी में बनकर मैं शराबी ।
(68 )
होगा तुमसे कुछ नहीं क्यों मुंह बजाते हो
समझदार होकर क्यों मुझे सताते हो।
(69)
 प्यार का दर्द नहीं मालूम कहां जाती मौज करने को
नहीं करोगी प्यार तो चलता हूं कहीं मरने को।
(70 )
मरना मत फिर मैं मर जाऊंगी याद में
शादी हो जाने दे प्यार तुम कर लेना बाद में।
( 71 )
तुमसे ही तो किया था मैं प्यार जनम जनम
बहाओगे आंसू जब तुम्हारे बिना तोड़ दूंगी दम।
( 72 )
मेरे लिए क्यों मरोगी कर ले किसी गैर से शादी
जा रहा हूं तेरे दिल से क्योंकि हूं मुरादाबादी।
( 73 )
बर्बाद करके क्यों बुलाते हो मुझे ले चलो संग में
 सेवा करूंगी दासी बनकर जीवन कटे  उमंग में ।
(74 )
तुझे साथ ले जाकर क्या मैं अपनी जान दू
गांव और घर के आगे कौन सी पहचान दू ।
(75 )
मोहब्बत की जाती है शाम दिखाने को
 शराब पी जाती है पहचान लुटाने को ।
(76 )
ऐसी बात है तो कुछ कर इंतजार
अनुमति लेकर आता हूं तुमसे ही है प्यार ।
(77 )
दूसरे की अनुमति क्या जब तुमने मुझसे प्यार किया
सजा दे मांग में सिंदूर इसमें सोच विचार क्या ।
(78 )
अरे बहाना नहीं करता हूं शादी करूंगा
जरूर प्यार करते तुम्हें नहीं करूंगा मजबूर।
(79 )
देते हो दिलासा करते हो बहाना
कर दूंगी रिपोर्ट तो जेल पड़ेगा जाना।
( 80 )
डर नहीं है मुझको जाओ कर देना
 रिपोर्ट दूसरी करूंगा शादी उसी का चूम लूंगा होठ।
( 81 )
मजाक कर रही थी हे मेरे सरताज
डरने की क्या बात मत हो नाराज।
(82 )
जिस्म पर घमंड है करते हो बहाना
रिपोर्ट के धमकी मुझे मत दिखाना।
( 83 )
एक लड़की थी सांवली उससे मैंने प्यार किया था
कलयरेसील कलियरटोन केबल चमकदार किया था।
(84 )
लड़की तो खुद ही चमकदार हुआ करती है
बेवफा प्यार के कारण बेकार हुआ करती है।
(85 )
बेकार होती खुद है लड़के का क्या दोष है
चलती है अंगड़ाई लेकर रहता  नहीं   होश हैं।
( 86 )
अंगड़ाई लेना तो जमाना सिखाता है
ना ली अंगड़ाई तो बेकार कहा जाता है।
(87 )
इसलिए तो फसाती है रफ्फू चक्कर के जाल में
लुटा देते हैं लड़ा कर नैन एक आध ही साल में।
(88)
 धीरे-धीरे तुम मुझसे गलत कर रहे हो बात
दुपट्टा से बांधकर दूंगी दो-चार लात ।
(89 )
लात मारने के पहले उड़ा ले जाऊंगा
अपना मकान रख दूंगा दुपट्टा एक तरफ देखदेखूंगा तेरी शान ।
(90)
 नियत तेरी आज हो गई है खराब है कमबख्त
 डर नहीं किया तुझे नहीं देखे खूब फांसी का तख्त ।
(91)
 होश नहीं तुझे क्या दिखाती हो घमंड जवानी में
चूस कर रस तोड़ फूल को फेंक दूंगा पानी में ।
(92 )
क्या लोभाई हो मुझ पर संभालने मुंह के पानी को
करना था तो सलाह से अब लौटा ले अपनी मनमानी को।
(93 )
दिल चाहता है तुझे ही ढूंढ कहां और कैसे
 लड़का चाहता है जिस लड़की को घमंड बढ़ जाता है उसे।
( 94 )
कहना तेरा ही बिल्कुल सही मैं समझ गई तेरी बात को
 मोहब्बत मुबारक हो तुम्हें बार-बार आऊंगी रात को ।
(95 )
क्या अजीब हो तुम दूसरों को देख रहा नहीं जाता
कैसी है जवानी दूसरी को देख सहा नहीं जाता है ।
(96 )
क्या करूं जवानी अब संभाला नहीं जाता
देता निकाल पर जवानी निकाला नहीं जाता।
( 97 )
बदमाशी मत बको संभाल लो जवानी को
छोड़ दो मेरा पीछा पकड़ लो अपनी नानी को।
( 98 )
मजाक करते हो बहुत बड़ी सयानी हो
अब पता चल गया है तुम भी दीवानी हो ।
(99 )
दीवानी तो मैं अपनी हूं तुम क्यों करोगे रखवाली
तुम हो नहीं असली एक नंबर के जाली ।
(100)
 प्यार कर तब बताऊंगा असली और जाली
 करके तुम्हें शादी बनाऊंगा घरवाली।
(101)

नहीं जरूरत तेरा जा यहां से भाग जा
मर जा जहर खा कर या वन आग जा ।
(102 )
आग बन जाए यदि तो तुम भी जल मरोगी तुम
इतराती जवानी पे उस पल क्या करोगी तुम।
( 103 )
भाग जाऊंगी आग लगने से पहले अपनी मंजिल में
 जल जाओगे स्वयं समा पाओगे ना दिल में।
( 104 )
लेकिन भागने ना दूंगा सिमटा  लूंगा बाहों में
जिधर भी निकलोगे खड़ा रहूंगा राहों में।
( 105 )
राह क्या रुकेंगे में चली आऊंगी डाल पे
 ज्यादा बकवास करोगे तो थूक दूंगी गाल  पे।
( 106 )
खींच लूंगा डाल से मोहब्बत वह जरी है
मोहब्बत पर ही तो दुनिया खड़ी है।
( 107 )
 तुमने मुझसे प्यार कर  अनजान बना दिया
जैसे तैसे लड़कों का मेहमान बना दिया ।
( 108 )
चाल जिसकी जैसी होती है वैसे परिणाम होता है
प्यार हजार से करने के कारण नाम बदनाम होता है।
( 109 )
जो किया ठीक किया परिणाम बहुत होगा बुरा
लगाऊंगा किसी गुंडे को भोंखेगा  तुझे छूरा।
( 110 )
गुंडा तो मैं ही हूं गुंडा किसे बनाएगी
देख लेना एक दिन मेरे पास आएगी ।
(111 )
तुमसे अच्छा भी मेरे लिए भटकता फिरता है
रात दिन एक कर मुझे पाने को मरता है ।
(112 )
दुनिया में कौन मुझसे है अच्छा
मैं ही तेरे इज्जत की करूंगा रक्षा ।
(113 )
भेजा तेरा बिगड़ गया एक ही मुलाकात में
बात कर ढंग से वरना मार दूंगी लात  से ।
(114 )
सिंदूर भरूंगा मांग में फिर लात से क्या लात से क्या मारेगी
पति के बिना बोलो रात कैसी गुजारोगी ।
(115 )
सिंदूर देने के लिए तुम्हारी हिम्मत चाहिए
मेरी जैसी लड़की पाने वाली की किस्मत चाहिए ।
(116 )
किस्मत की क्या बात मैं ही हूं दीवाना तेरा
 ले जाऊंगा पालकी पर बिठा के देकर सात फेरा ।
(117 )
पालकी पे बैठओगे क्या ऐनक पे सूरत तो निहार
कौन पसंद करेगा तुझे मंसूबे बांधते हो हजार।
( 118 )
सूरत मेरी खराब हुई तुझे तैयार करने में
गाल मेरा धंस गया तुझसे प्यार करने में।
( 119 )
भूल हुई थी मुझसे जो अब माफ कर देना
 खुदा के लिए पीछा छोड़ इंसाफ कर देना।
( 120 )
तैयार किया हूं मैं तुझे तुम मुझसे रिश्ता जोड़ना
भूल ना जाना एहसान को मुझसे मुंह ना मोड़ना।
( 121 )
शादी अगर करनी हो तो बात करो मेरे बाप से
क्या मन मारे हो होगा नहीं कुछ आप से ।
(122 )
तेरे बाप को क्या पूछूं तू ही तो मालिक है
कली से फूल बनी कहां  तू  नबालिक है।
(123 )
नहीं करूंगी शादी तुझसे आखिरी यही है फैसला
मुहं बाय चले जा घर को नहीं तो बुलंद कर दूंगी हौसला।
(124 )
मैं नहीं समझता था तुम मुझे प्यार देगी
 सीने से सटाकर अपने गले का हार देगी।
(125 )
तड़पाना नहीं चाहती करके किसी से प्यार
व्यवहार होता है लड़की का लड़के से लचकदार।
( 126 )
तुम तो हो सयानी  पड़पाई चार साल से
विश्वास ना हो तो पूछो अपने प्रेमी गोपाल से ।
(127 )
तड़पाई थी नहीं ली थी मैंने परीक्षा
अब है साथ रहने की तुम से ही मेरी इच्छा।
(128)
नहीं करूंगा शादी तुमसे फिर तड़पाओगी कोई शक नहीं
दूसरी कुंवारी से आंखें मिल गई मुझ पर तेरा हक नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here